देश-दुनिया

कोरोना टीकाकरण का अगला चरण आज से, जानिये किसे और कैसे लगेगा टीका

खबर को सुनें
नई दिल्ली। देशभर में आज से कोरोना वायरस टीकाकरण के दूसरे चरण की शुरुआत होने जा रही है। इसी के साथ स्वास्थ्य और फ्रंटलाइन वर्करों के बाद अब आज से 60 साल से ऊपर के बुजुर्ग और किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 साल के ऊपर के व्यक्तियों का टीकाकरण किया जाएगा।



केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि सरकारी कोविड टीकाकरण केंद्र पर टीकाकरण का पूरा खर्च वही वहन करेगी और इन सेंटर पर मुफ्त में वैक्सीन लगेगी। दूसरी ओर से अब प्राइवेट अस्पतालों में टीकाकरण किया जाएगा। ऐसे में निजी अस्पतालों में बने कोविड वैक्सीन सेंटर पर वैक्सीन की एक डोज 250 रुपए मिलेगी। लोगों के पास दोनों ऑप्शन उपलब्ध रहेंगे अपनी सुविधानुसार जाकर टीका लगवा सकते हैं। टीकाकरण के लिए इस्तेमाल किए जा रहे को-विन2.0 पोर्टल पर पंजीकरण सोमवार सुबह नौ बजे शुरू हो जाएगा। नागरिक किसी भी समय और कहीं भी टीकाकरण के लिए पंजीकरण और बुकिंग को-विन2.0 पोर्टल का उपयोग करके या आरोग्य सेतु जैसे अन्य आईटी एप्लीकेशन के माध्यम से कर सकेंगे।</h6


>
एक ही लाइव अपॉइंटमेंट होगा
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, प्रत्येक खुराक के लिए किसी भी समय लाभार्थी के लिए केवल एक ही लाइव अपॉइंटमेंट होगा। किसी भी तारीख के लिए किसी कोविड टीकाकरण केंद्र के लिए अपॉइंटमेंट उस दिन दोपहर 3 बजे बंद कर दिए जाएंगे, जिसके लिए स्लॉट खोले गए थे। मंत्रालय ने कहा कि यदि कोई लाभार्थी पहली खुराक के लिए अपॉइंटमेंट रद्द करता है, तो दोनों खुराक की अपॉइंटमेंट रद्द कर दी जाएगी।



साथ रखें इनमें से कोई एक पहचान पत्र
दूसरे चरण के टीकाकरण में शामिल होने के लिए सरकार की ओऱ से 12 पहचानपत्रों की एक सूची जारी की गई है। इनमें आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, मतदाता पहचानपत्र, पैन कार्ड, जनप्रतिनिधियों को जारी पहचानपत्र, बैंक/पोस्ट ऑफिस पासबुक, पासपोर्ट, पेंशन दस्तावेज, सरकारी कर्मचारियों का सेवा पहचानपत्र और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के तहत जारी स्मार्ट कार्ड शामिल है। टीका लगवाने पहुंचने वाले शख्स को इनमें से कोई भी एक पहचान पत्र अपने पास रखना होगा और वैक्सीनेशन सेंटर पर दिखाना होगा। जिसके बाद ही प्रक्रिया आगे बढ़ेगी।
इन प्रमुख बीमारियों से पीड़ित लगवा सकते हैं टीका
– पिछले 1 साल में हार्ट फेल होने की वजह से अस्पताल में भर्ती होना पड़ा हो।
– पोस्ट कार्डियक ट्रांसप्लांट या लेफ्ट वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस (LVAD)।
– सिग्निफिकेंट लेफ्ट वेंट्रिकुलर सिस्टोलिक डिसफंक्शन (एलवीईएफ 40 परसेंट से कम)।
– मॉडरेट और गंभीर वल्वुलर हार्ट बीमारी।
– पीएएच या इडियोपैथिक पीएएच के साथ कॉन्जेनाइटल हार्ट बीमारी।
– पहले सीएबीजी या पीटीसीए या एमआई और हाइपरटेंशन या डायबिटीज का इलाज हुआ हो, कोरोनरी अर्टरी बीमारी की शिकायत रही हो।
– एंजाइना और हाइपरटेंशन या डायबिटीज का इलाज हुआ हो।
– डायबिटीज (10 साल से ज्यादा समय से) और हाइपटेंशन का इलाज चल रहा हो।
-पिछले दो साल में सांस की गंभीर बीमारी के कारण हॉस्पिटल में भर्ती हुए हों।
– इसके अलावा भी और कई बीमारियां जिससे पीड़ित व्यक्ति टीकाकरण में शामिल हो सकता है।



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button