बिलासपुर, चंबा, हमीरपुरहिमाचल

सीएमओ डा. दडोच ने बताया जलजनित बीमारियों से कैसे बचें, विस्तार से पढ़ें

खबर को सुनें

बिलासपुर। मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिलासपुर डॉक्टर प्रकाश चंद दडोच ने बताया कि समुदाय को कोविड-19 के बचाव के साथ-साथ  अन्य जल जनित बीमारियों के स्वास्थय पर पडने वाले दुषप्रभावो के बारे में भी जागरूक रहने की आवश्यकता है। उन्हाेने बताया कि हाल ही में फरवरी माह में डियारा व हाउसिंग बोर्ड कलौनी में दस्त रोग से प्रभावित हुए और अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है लेकिन फिर भी आने वाले गर्मी व बरसात के मौसम में हर तरह से पानी से होने वाले रोगों से सचेत रहने की आवश्यकता है व हमें इनसे बचने की पूरी जानकारी होनी चाहिए।  उन्हाेने बताया कि विश्व की 80 प्रतिशत से अधिक बीमारियां दूषित जल से होने वाले रोगों के कारण होती हैं, जिनमें डायरिया प्रमुख है।  भारतवर्ष में हर साल लगभग 2 लाख बच्चे दस्त रोग के कारण मर जाते हैं। उन्होंने बताया कि जल प्राकृतिक रूप से स्वच्छ होता, लेकिन जल के प्रदूषित होने के कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियां जैसे हैजा, टाइफाइड, पेचिश, पीलिया, आंत्रशोथ दस्त रोग उल्टी, कृमि रोग पोलियो तथा जल भराव के कारण मच्छर पैदा होने से मलेरिया तथा डेंगू इत्यादि रोग उत्पन्न हो जाते हैं।



उन्होंने बताया कि गर्मियों तथा बरसात के मौसम में विशेष कर दस्त रोग शिशुओ और बच्चों तथा आम लोगों में हो जाता है जिसका अगर समय पर उसका उपचार न किया गया तो निर्जलीकरण से मौत भी हो सकती है। उन्होंने बताया कि जल स्रोतों को गंदा न करें, उनमें स्नान न करें न ही कपड़े धोए, पेयजल स्रोतों के चारों ओर कंक्रीट की दीवार लगानी चाहिए ताकि वर्षा का पानी उसमें न जाए, शौच खुले में न जाएं, शौच जाने के लिए शौचालय का ही प्रयोग करें, पीने के लिए क्लोरीन युक्त नल के जल या हैण्ड पम्प के पानी  का ही उपयोग करें आवश्यकता पडने पर बावरियों और कुएं के पानी को उबाल कर ही पीएं, या 15 से 20 लीटर जल मे 1 गोली क्लोरीन की अवश्य पीस कर डालें या 1000 लीटर पानी, 2.5 ग्राम वलिचिग पाउडर डालें, उसके कम से कम आधे घण्टे पश्चात ही पानी उपयोग में लाएं। पानी को साफ बर्तन में ढक कर  रखें। बर्तन से पानी निकालने के लिए हमेशा हैंडल वाले गिलास का उपयोग करें।



उन्होंने बताया कि साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें, खाने पीने की चीजों को ढक कर रखें, खाना खाने से पहले तथा शौच जाने के पश्चात साबुन व पानी से हाथ अच्छी तरह से धोएं। दस्त रोग के कारण प्राय शरीर में पानी की कमी हो जाती है। दस्त होने पर आर एस का घोल पिलाएं। उन्होंने बताया कि 0 से 5 वर्ष के बच्चों को ओ.आर.एस. के घोल का पैकेट मुफ्त दिया जाता है तथा दस्त रोग से पीडित बच्चों का ओ आर एस व जिंक की गोलियों से उपचार किया जाता है। उन्होंने बताया कि अगर दस्त के साथ खून आए या दस्त ठीक न हो तो तुरंत चिकित्सक की सलाह ले। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे इन बीमारियों के कारणों व बचाव तथा उपचार के प्रति जागरूक रहें।जलजनित रोगों से बचाव के लिए हर वर्ष की तरह लोगों को जागरूक करने तथा बच्चो में दस्त रोग की रोकथाम हेतु सघन दस्त रोग पखवाडा 27 जुलाई से 11 अगस्त तक मनाया गया। जिसके अंतर्गत सभी स्वास्थय केन्द्रों में ओ.आर.एस. और जिंक केन्द्र बनाए गए थे तथा लोगों को हाथ धोने के तरीके सिखाए गए। उन्होंने बताया कि जिला के सभी स्वस्थ्य संस्थानों में ओ.आर.एस., जिंक की गोलियां तथा पानी को शुद्ध करने के लिए क्लारीन की गोलियां तथा लोगों को जागरुकता करने हेतु पर्याप्त मात्रा में प्रचार-प्रसार सामग्री इत्यादि सभी आवश्यक चीजें उपलब्ध करवा दी गई हैं।


Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button