8.4 C
Shimla
Sunday, April 18, 2021
Home स्वास्थ्य कई बिमारियों में रामबाण है बुरांश का फूल, जानिये इसके गुण

कई बिमारियों में रामबाण है बुरांश का फूल, जानिये इसके गुण

धर्मशाला । प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण हिमाचल प्रदेश अपने हरे-भरे जंगलों, कलकल बहते नदी-नालों, ब़र्फ से लदे पहाड़ों और बेशक़ीमती जड़ी-बूटियों की वजह से विश्व के मानचित्र पर अपनी विशेष पहचान रखता है। हिमाचल के जंगलों में कई ऐसे फल-फूल और जड़ी-बूटियॉं मौजूद हैं, जो अपने खास गुणों के कारण कई बिमारियों में रामबाण का काम करते हैं। ऐसे ही गुणों से भरपूर है-बुरांश के फूल, जो जनवरी माह के अंत तक जंगलों में खिलना आरम्भ हो जाते हैं। इसके विषिष्ट गुणों के चलते लोग साल भर इसके खिलने का इन्तज़ार करते हैं। इसकी लोकप्रियता का अन्दाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बाज़ार में आते ही यह हाथों-हाथ बिक जाता है। हिमाचल के पहाड़ों पर आजकल खिले ‘बुरांश के फूल’ स्थानीय लोगों के अलावा पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं।



मनमोहक, आकर्षक एवं क़ुदरती गुणों से भरे हुए इन फूलों को प्रदेश में आने वाले पर्यटक और स्थानीय लोग अपने-अपने कैमरों में क़ैद कर रहे हैं। भले ही बुरांश के ये फूल कुछ दिनों बाद जंगल से अपना डेरा-डंडा उठा लें लेकिन लोगों की स्मृतियों और कैमरों में क़ैद होने के बाद ताउम्र ताज़ा रहेंगे। बुरांश के पेड़ समुद्रतल तल से लगभग 1500 मीटर से 3600 मीटर तक की ऊंचाई पर पाए जाते हैं। यह वृक्ष मुख्यतः ढलानदार जमीन पर पाए जाते हैं। बुरांश की विषेषता है कि वे देखने में जितने सुन्दर होते हैं, उतने ही स्वास्थ्यवर्धक भी होते हैं। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा, मंडी, शिमला, चम्बा तथा सिरमौर ज़िलों में बुरांश के पेड़ अधिक संख्या में पाए जाते हैं। स्थानीयता के अनुसार इन फूलों को विभिन्न ज़िलों में आमतौर पर बुरांश, ब्रास, बुरस या बराह के फूल के नाम से जाना जाता है। विषेषज्ञों के अनुसार लाल रंग वाले बुरांश के फूलों का औषधीय महत्व अधिक होता है। कई शोधों के अनुसार बुरांश एन्टी डायबिटिक, एन्टी इन्फ्लामेट्री और एन्टी बैक्टिरियल गुणों से भरपूर होता है।




इस तरह इन फूलों को बेहद स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है। लोग इन्हें बवासीर, लीवर, किडनी रोग, खूनी दस्त, बुखार इत्यादि के दौरान प्रयोग में लाते हैं। कई लोग इनकी पंखुड़ियों को सुखाने के बाद इन्हें साल भर प्रयोग में लाते हैं।  ग्रामीण क्षेत्रों में, जहां बुजुर्ग आज भी बुरांश के मौसम में इसकी चटनी बनवाना नहीं भूलते, वहीं युवाओं में भी यह चटनी इतनी ही प्रिय है। इसके अलावा अब आधुनिक फल विधायन के माध्यम से बुरांश के फूलों का जूस बनाया जा रहा है। बुरांश का जूस बाज़ार में साल भर आसानी से उपलब्ध रहता है, जो इसकी बढ़ती लोकप्रियता का द्योतक है। जहां, इन फूलों का प्रयोग औषधीय रूप में किया जाता है, वहीं यह कई सप्ताह तक स्थानीय लोगों की अतिरिक्त आय के साधन के रूप में उनकी आर्थिकी को सम्बल प्रदान करता है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद कोरोना पॉजिटिव

नई दिल्ली। बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद को कोरोना हो गया है, अभिनेता ने इस बात की जानकारी अपने सोशल मीडिया के जरिए फैंस को...

कोविड के खिलाफ लड़ाई में सरकार के प्रयासों को भरपूर सहयोग दें उद्योगपतिः मुख्यमंत्री

शिमला । मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज सोलन जिले के बद्दी में  बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (बीबीएनआईए) के साथ एक बैठक की अध्यक्षता करते...

ट्रक की चपेट में आने से यहां बाइक सवार युवक की मौत

ऊना। जिला ऊना के पेट्रोल पंप के समीप हुए हादसे में बाइक सवार युवक की मौत हो गई है। मृतक युवक की पहचान...

फिर शर्मसार हुई देवभूमि, 12 वर्षीय नाबालिग के साथ दुष्कर्म

ऊना। देवभूमि हिमाचल में अपराध रुकने का नाम ही नहीं ले रहे है। ज़िला ऊना में इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया...